Xossip

Go Back Xossip > Mirchi> Stories> Hindi > कुछ तान्त्रिक घटनाऐं

Reply Free Video Chat with Indian Girls
 
Thread Tools Search this Thread
  #61  
Old 1st January 2017
Raj shukla's Avatar
Raj shukla Raj shukla is offline
Custom title
 
Join Date: 11th September 2016
Posts: 23,933
Rep Power: 74 Points: 61934
Raj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps database

Reply With Quote
  #62  
Old 1st January 2017
cobra1255's Avatar
cobra1255 cobra1255 is offline
 
Join Date: 24th May 2015
Posts: 764
Rep Power: 7 Points: 1239
cobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our community
अरे तो महाराज, उन्हें आपने अपना परिचय देना था न। अजी आप अपना पूरा नाम ही बता देते तो उसी के रोब से वो डर कर भाग जाते! दमन भी मुस्कुरा पड़े, अरे भाई , ये साले सब के सब अनपढ़ है। अब इनसे क्या मुंह लगना। छोड़ो जी, जारी रहने तो मंत्र पाठ इनका। यूँही बात चीत होती रही और समय गुजरता रहा। रात के ११ का वक़्त होगा। चिताग्नि तनिक मंद पडी थी पर अब भी काफी प्रबलता बाकी थी। सहसा चिता आलोक में एक वृहद् छाया मंदिर के ध्वस्त अवशेषों की तरफ से श्मशान के बीचो बीच आती दिखी। मैंने दमन को सचेत कर दिया। वो दो थे। आगे आगे सन्यासी आ रहे थे, हाथ में त्रिशूल, गले में मालाएं, भुज बंद, मनके, अस्थि मॉल। वही रौद्र रूप जो मैंने कीकर के पेड़ के नीचे देखा था। त्रिकोणीय त्रिशूल के कुछ नीचे एक डमरू बंधा था। सन्यासी के पीछे पीछे, हाथ में एक काफी भारी झोला और दूसरे में एक बैग लिए डोम को मैंने पहचान लिया। तो ये महाशय सन्यासी की सेवा हेतु चिताओ को लावारिस छोड़ कर नदारत थे !

Reply With Quote
  #63  
Old 1st January 2017
Raj shukla's Avatar
Raj shukla Raj shukla is offline
Custom title
 
Join Date: 11th September 2016
Posts: 23,933
Rep Power: 74 Points: 61934
Raj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps database
Agli kadi ka intezaar hai ho sake to ish katha ko aaj puri kar do mitra

Last edited by Raj shukla : 1st January 2017 at 03:42 PM.

Reply With Quote
  #64  
Old 1st January 2017
cobra1255's Avatar
cobra1255 cobra1255 is offline
 
Join Date: 24th May 2015
Posts: 764
Rep Power: 7 Points: 1239
cobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our community
सन्यासी रोबदार चाल से चलते हुए दूर वाली चिता तक गए। चिता को नमन किया। ५ परिक्रमा की और खड़े होकर कोई मंत्र बुदबुदाने लगे। उधर डोम राज ने चिता से कुछ दूर एक आसान सा लगा दिया। भारी थैला एक तरफ रख दिया गया था। सन्यासी पीछे मुड़े और थोड़ा पीछे आके आसन पर विराजमान हो गए। अब छोटे बैग में से डोम ने सामन निकाल निकाल कर रखना शुरू कर दिया। तीन कपाल सामने रखे गए। तीनो के ऊपर एक एक दीपक सजाया गया। कुछ अनगढ़ पुराने पत्थर रखे गए जो किसी पूजित शक्ति के प्रतीक लग रहे थे उन्हें एक ऊँचे आसान पर रख गया । बाकी पूजन सामग्री भी निकाल कर सन्यासी ने अपने बगल में रख लिया। पूजन आरम्भ होने को था,,,,

Reply With Quote
  #65  
Old 1st January 2017
cobra1255's Avatar
cobra1255 cobra1255 is offline
 
Join Date: 24th May 2015
Posts: 764
Rep Power: 7 Points: 1239
cobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our community
Quote:
Originally Posted by Raj shukla View Post
Agli kadi ka intezaar hai ho sake to ish katha ko aaj puri kar do mitra
आज पूरी करना सम्भव नहीं है मित्र! अभी काफी कहानी बाकी है और फिर आज नए साल की पार्टी भी तो है शाम को !

Reply With Quote
  #66  
Old 1st January 2017
accordion's Avatar
accordion accordion is offline
A chase of dreams begains
 
Join Date: 29th August 2015
Location: AZMGRH
Posts: 3,143
accordion has disabled reputations





Kabhi hasati hain toh kabhi rulati hain,
Ye zindagi bhi na jaane kitne rang dekhati hain

Haste hai toh bhi ankhon me nami aa jaati hai,
Na jane ye kesi yaade hai jo dil mein bas jaati h

Karte hain Dua ess naye saal ke avsar parů.

Mere doston ke labon per sada muskaan rahe
Kyuki unki hr muskurahat hme khushi de jati hi...

Wish You Happy New Year 2017


______________________________
⭐⭐Read My Friend Story⭐⭐
⭐⭐⭐⭐⭐⭐

⭐⭐ ♥Aashiqui_2♥⚜
( When Hate Turns to Love)⭐⭐
⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐

Reply With Quote
  #67  
Old 1st January 2017
Raj shukla's Avatar
Raj shukla Raj shukla is offline
Custom title
 
Join Date: 11th September 2016
Posts: 23,933
Rep Power: 74 Points: 61934
Raj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps databaseRaj shukla has hacked the reps database
agli kadi ka tahedil se intezaar rahega pyare dost

Reply With Quote
  #68  
Old 1st January 2017
cobra1255's Avatar
cobra1255 cobra1255 is offline
 
Join Date: 24th May 2015
Posts: 764
Rep Power: 7 Points: 1239
cobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our community
सन्यासी ने आसन एवं स्थान पूजन सम्पन किया। चिता को नमन किया। दिग्पालो को नमन किया। शमशान पूजन पश्चात शमशान वासी पारलौकिक प्राणियों को भी भोग अर्पित
किया गया ! सारी पूजन सामग्री यथास्थान व्यवस्थित करने के साथ साथ वो अस्फुट स्वर में मंत्र जाप भी करते जा रहे थे। तीनो कपालो के ऊपर रखे दीप प्रज्जवलित कर दिए गए थे और उन्हें शक्ति स्वरुप पत्थरो को जोत दिखाकर वापस अपने स्थान पर सजा दिया गया। सन्यासी का मंत्रोच्चारण अब तीव्र होता जा रहा था।
अचानक, सन्यासी ने डोम को इशारा किया। बड़ा थैला खोल जा रहा था। हम चौक गए जब डोम ने उसमे से एक बलि भोग कृत बकरे को निकाला । बकरे को चिता और सन्यासी के बीच रख कर वो फिर थैले की तरफ बढ़ा, इस बार सिंदूर के टीके और पुष्प हार से सुसज्जित और पूजित अजमुंड निकाला और सन्यासी के सामने रख दिया। सन्यासी ने अजमुंड पर फिर से कुछ पूजन सामग्री चढाई और फिर छोटे थैले से एक ढक्कन लगा बर्तन निकाला, बर्तन लेकर अजमुंड पर रक्त अर्पित किया और चारो दिशाओं में छिड़कने के बाद अपने को रक्त तिलक से शुशोभित करने लगा !

Reply With Quote
  #69  
Old 1st January 2017
cobra1255's Avatar
cobra1255 cobra1255 is offline
 
Join Date: 24th May 2015
Posts: 764
Rep Power: 7 Points: 1239
cobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our communitycobra1255 is a pillar of our community
तीन तीन हाहाकारी दग्न चिताओ के आलोक में सन्यासी का रूप बड़ा विहंगम दिखा रहा था। मंत्रोचार अब और भी तीक्ष्ण होता जा रहा था। डोम राज अब शायद साधना के ताप को ना सहन कर पाने के कारन कुछ दूर होक बैठ गए। में और दमन मंत्रमुग्ध से बैठे साधना रत सन्यासी को निहार रहे थे। अचानक दमन फुसफुसाए, पंडित जी, बकरे की बलि कहा दी गई होगी ? भूल गए क्या मंदिर की बलि वेदी का रक्त भोग ? मैने भी फुसफुसाते हुवे जबाब दिया। हमारा ध्यान फिर से सन्यासी और उनकी साधना की तरफ गया। मुझे अब तक कुछ समझ नहीं आ रहा था की ये साधना किसकी की जा रही है और इस साधना का ध्येय क्या है ! सन्यासी का मंत्रोचारण जारी था।

Reply With Quote
  #70  
Old 1st January 2017
premsharma.78's Avatar
premsharma.78 premsharma.78 is offline
 
Join Date: 18th May 2014
Location: Heart of India
Posts: 317
Rep Power: 8 Points: 857
premsharma.78 has received several accoladespremsharma.78 has received several accoladespremsharma.78 has received several accoladespremsharma.78 has received several accolades
एक महान लेखक की याद ताजा कर दी । आपके इस सूत्र ने उनकी लेखनी भी इतनी शसक्त थी ।
एक दम जादुई सी ।
______________________________
"नीलाम कुछ इस कदर हुए, बाज़ार-ए-वफ़ा में हम आज.
बोली लगाने वाले भी वो ही थे, जो कभी झोली फैला कर माँगा करते थे!!

"SOME TIME MY ATTEMPT MAY FAIL, BUT I NEVER FAIL TO MAKE AN ATTEMPT.

Reply With Quote
Reply Free Video Chat with Indian Girls


Thread Tools Search this Thread
Search this Thread:

Advanced Search

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

vB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off
Forum Jump



All times are GMT +5.5. The time now is 09:04 PM.
Page generated in 0.02204 seconds